Total Visitors : 2 6 2 1 8 7 0

मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी रविवार तड़के थम जाएंगी ...

कोरोना वायरस

सभी उपनगरीय ट्रेन सेवाएं भी बहुत कम कर दी जाएंगी। भारतीय रेलवे कोरोना वायरस के चलते गैर-जरूरी यात्रा पर रोक लगाने के मकसद से अबतक 245 ट्रेनें रद्द कर चुका है।

नई दिल्ली- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) द्वारा घोषित जनता कर्फ्यू के मद्देनजर देश में शनिवार मध्यरात्रि से रविवार रात दस बजे के बीच किसी भी स्टेशन से कोई यात्री ट्रेन सफर शुरू नहीं करेगी। सूत्रों ने PTI को बताया कि मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी रविवार तड़के थम जाएंगी। सभी उपनगरीय ट्रेन सेवाएं भी बहुत कम कर दी जाएंगी।

भारतीय रेलवे (Indian Railway) कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते गैर-जरूरी यात्रा पर रोक लगाने के मकसद से अबतक 245 ट्रेनें रद्द कर चुका है। गौरतलब है कि मोदी ने गुरुवार को राष्ट्र को संबोधित करते हुए कोरोना वायरस से निपटने के लिये रविवार को 'जनता कर्फ्यू' का अनुपालन करने की अपील की थी।

बता दें कि वर्तमान में देशभर में रोजाना 2,400 पैसेंजर ट्रेनें और 1,300 मेल व एक्सप्रेस ट्रेनें चलती हैं। अब रविवार को इन 3,700 ट्रेनों के ​परिचालन नहीं होने की वजह से पहले से की गई बुकिंग को रद्द माना जाएगा। यात्रियों को पूरा रिफंड भी दिया जाएगा।

सभी मेल, एक्सप्रेस ट्रेनों में 22 मार्च से खान-पान सेवाओं पर रोक

कोरोना वायरस महामारी के चलते भारतीय रेलवे खान-पान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) ने सभी मेल, एक्सप्रेस ट्रेनों में 22 मार्च से अगले नोटिस तक खान-पान सेवाएं बंद करने का आदेश दिया है। रेलवे की सहायक कंपनी आईआरसीटीसी ने शुक्रवार को जारी आदेश में कहा कि उसने सभी फूड प्लाजा, जन आहार और रसोई को अगले नोटिस तक के लिए बंद करने का फैसला किया है।
आदेश के मुताबिक, प्रीपेड ट्रेनों में भोजन की आपूर्ति करने वाली स्थिर इकाइयां काम करना जारी रख सकती हैं। हालांकि, मेल एक्सप्रेस ट्रेनों और ट्रेन साइड वेंडिंग (टीएसवी) ट्रेनों की खान-पान सेवाओं को बंद रखना चाहिए। इसमें यह भी कहा गया कि अगर ट्रेनों में दी जाने वाली सेवाओं की मांग होती है तो सिर्फ प्रोपराइटी आर्टिकल डिपो(पीएडी) वस्तुएं, चाय और कॉफी ट्रेनों में बेचे जाने की इजाजत दी जा सकती है। आदेश के मुताबिक, ये निर्देश 22 मार्च से लागू होंगे।

पीएम मोदी ने जनता कर्फ्यू के लिए किया था अपील

गौरतलब है कि गुरुवार को 'सोशल डिस्टेंसिंग' को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने 22 मार्च को सुबह 7 बजे से लेकर रात 9 बजे तक 'जनता कर्फ्यू' लगाने की अपली की है। पीएम मोदी ने कहा ​कि जरूरी सेवाओं के अलावा सभी लोग अपने घर में रहने की कोशिश करें। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस जैसी चुनौती से निपटने के लिए यह हमारे लिए एक लिट्मस टेस्ट होगा कि हम कैसे इससे निपट सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह राष्ट्रहित में है।

प्रधानमंत्री ने कहा, 'इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि बेवजह अपने घर से न निकले। केवल इमरजेंसी और जरूरी सेवाओं में शामिल लोगों को छोड़कर और कोई भी व्यक्ति अपने घर से ​22 मार्च को निर्धारित समय के बीच न निकले।

Related News

Leave a Reply