Total Visitors : 3 9 4 8 4 1 5

भाजपा ने की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक ...

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक

नई दिल्ली:- बिहार विधानसभा चुनाव से पहले दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी  की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में बीजेपी के उम्मीदवारों के नामों को लेकर चर्चा की गई। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि जल्द ही पार्टी उम्मीदवारों की सूची जारी कर सकती है। वहीं सूत्रों के हवाले से पता चला है कि बीजेपी सोमवार को ही प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर सकती है। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे।  इसके अलावा पार्टी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पार्टी के नेता शहनवाज हुसैन और भूपेंद्र यादव भी भाजपा के दफ्तर में मौजूद रहे।

बीजेपी की इस बैठक से कुछ देर पहले ही लोक जनशक्ति पार्टी  की केंद्रीय संसदीय बोर्ड की बैठक में यह फैसला लिया है कि लोजपा बिहार चुनाव में एनडीए के तहत चुनाव न लड़ने का फैसला किया है। लोजपा ने इसके पीछे जेडीयू के साथ वैचारिक मतभेद को कारण बताया है। लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के नयी दिल्ली स्थित आवास पर रविवार को पार्टी के केंद्रीय संसदीय बोर्ड की बैठक हुई। इसके बाद लोजपा के प्रधान महासचिव अब्दुल खालिक ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर व लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी का भाजपा के साथ मजबूत गठबंधन है लेकिन राज्य स्तर पर व विधानसभा चुनाव में गठबंधन में मौजूद जदयू से वैचारिक मतभेदों के कारण बिहार में लोजपा ने गठबंधन से अलग चुनाव लड़ने का फैसला लिया है।

इस बात पर नहीं बन पाई सहमति

खालिक ने कहा कि कई सीटों पर जदयू के साथ वैचारिक लड़ाई हो सकती है ताकि उन सीटों पर जनता निर्णय कर सके कौन सा प्रत्याशी प्रदेश के हित में बेहतर है। उन्होंने कहा कि लोजपा ‘बिहार पहले बिहारी पहले’ दृष्टिपत्र को लागू करना चाहती थी जिस पर समय रहते सहमति नहीं बन पायी।

उल्लेखनीय है कि लोजपा ने गत दो अक्टूबर को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सात निश्चय योजना को भ्रष्टाचार का पिटारा होने का आरोप लगाते हुए कहा था कि इस योजना के सभी कार्य अधूरे रह गए और भुगतान भी नहीं हुआ।

पार्टी आगे भी रहेगी राजग का हिस्सा

लोजपा सूत्र ने कहा कि उनकी पार्टी वर्तमान में राजग का हिस्सा है और आगे भी रहेगी और बिहार विधानसभा चुनाव के बाद उनकी पार्टी के सभी विधायक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हाथ और मज़बूत करेंगे। लोजपा सूत्रों ने कहा कि इससे पूर्व में भी कई बार देखा गया है कि जो पार्टियां केन्द्र में गठबंधन का हिस्सा होती हैं, वे विभिन्न राज्यों में एक दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ती हैं। लोजपा प्रवक्ता अशरफ अंसारी ने बताया कि उनकी पार्टी बिहार विधानसभा के 243 सीटों में से 143 पर अपने उम्मीदवार उतारेगी।

Related News

Leave a Reply