Total Visitors : 8 6 6 5 1 4

'व्‍यवहारिक और किफायती विकल्‍प हैं ये वेरिएंट' ...

कीमत है सिर्फ 55 रुपये

नई दिल्‍ली:- दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच वैज्ञानिक और शोधकर्ता दिनरात इसका इलाज व वैक्‍सीन बनाने में जुटे हैं। कई देशों ने कोरोना वैक्‍सीन बना ली हैं। ये वैक्‍सीन इस समय ट्रायल के अलग-अलग चरणों से गुजर रही हैं। वहीं, दुनियाभर में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अलग-अलग दवाओं का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। कई देशों में फेविपिराविर को कोरोना मरीजों के इलाज में कारगर माना गया है। भारतीय दवा कंपनी एफडीसी लिमिटेड (FDC Ltd.) ने ग्‍लेनमार्क की दवाा फेविपिराविर (Favipiravir) के दो वेरिएंट पाईफ्लू (PiFLU) और फैवेंजा (Favenza) लॉन्च कर दी है।

दोनों वेरिएंट की एक गोली की कीमत है 55 रुपये

एफडीसी लिमिटेड ने फेविपिराविर के इन दोनों वेरिएंट की कीमत भी काफी कम रखी है। दोनों वेरिएंट की एक टैबलेट की कीमत 55 रुपये रखी गई है। इन दोनों वेरिएंट का भारत में कोरोना के हल्के और मध्यम लक्षणों वाले मरीजों के इलाज में किया जाएगा। कंपनी ने बताया कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने एंटीवायरल दवा फेविपिराविर को मंजूरी दे दी, जो हल्के से मध्यम लक्षणों वाले कोरोना मरीजों में क्लिनिकल रिकवरी को तेज करने में कामयाब रही है।

'व्‍यवहारिक और किफायती विकल्‍प हैं ये वेरिएंट'

दवा कंपनी के प्रवक्ता मयंक टिक्‍खा ने कहा कि देश में कोविड-19 के बहुत ज्‍यादा मामले सामने आ चुके हैं। हर दिन हजारों की संख्‍या में पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं। इसलिए स्वास्थ्य की देखभाल में लगे कर्मचारियों को वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए व्यावहारिक और किफायती विकल्प उपलब्‍ध कराने का भी समय आ गया है। उन्होंने कहा कि फैवेंजा और पाइफ्लू से मरीजों की बिगड़ती हालत को संभालने में मदद मिलेगी। हम सरकार और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र के लोगों के साथ मिलकर ये दोनों वेरिएंट देशभर में उपलब्ध कराएंगे।

शरीर में वायरस की संख्‍या बढ़ने से रोकने में करेगा मदद

मयंक ने कहा कि फेविपिराविर व्यापक स्पेक्ट्रम वाला एंटी-वायरल एजेंट है। ये खास तौर पर इन्फ्लूएंजा और SARCov-2 वायरस के आरएनए पोलीमरेज व वायरल रिप्लिकेशन को रोकता है। कोविड-19 के करीब 30 लाख मामलों के साथ भारत दुनिया के तीसरा सबसे बड़ा देश बन गया है। हर दिन सामने आने वाले संक्रमण के नए मामलों के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था और आबादी को पिछली दो तिमाहियों में तगड़े झटके लगे हैं।

Related News

Leave a Reply