Total Visitors : 3 0 8 8 4 6 3

2021 से पहले वैक्सीन बनने की उम्मीद नहीं- डब्ल्यूएचओ ...

दुनिया में हर दिन करीब दो लाख नए केस मिल रहे, ठीक होने वाले मरीजों का आंकड़ा भी एक लाख,अमेरिका में सबसे ज्यादा 40.64 लाख मरीज, यहां कोरोना से अब तक 1.45 लाख लोगों की मौत, ब्राजील के राष्ट्रपति तीसरी बार पॉजिटिव; दुनिया में अब तक 1.52 करोड़ केस। 

दुनिया में कोरोनावायरस के अब तक 1 करोड़ 52 लाख 35 हजार 208 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें 91 लाख 99 हजार 632 ठीक हो चुके हैं, जबकि 6 लाख 23 हजार 576 की मौत हो चुकी है। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं। 
डब्ल्यूएचओ ने बुधवार को कहा कि 2021 से पहले वैक्सीन बनने की कोई उम्मीद नहीं है। अगर रिसर्चर्स को वैक्सीन बनाने में सफलता मिल भी जाती है तो अगले साल की शुरुआती दिनों से पहले उम्मीद नहीं की जा सकती है। डब्ल्यूएचओ के कार्यकारी निदेशक माइक रेयान ने कहा कि वैक्सीन बनने में भले थोड़ी देरी ही क्यों न हो जाए, लेकिन सुरक्षा मानकों में कोई कमी नहीं होनी चाहिए।
उधर, ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो की तीसरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव मिली है। हालांकि, उनकी स्थिति अभी बेहतर है। राष्ट्रपति के संचार मंत्रालय ने बताया कि 21 जुलाई को उनका टेस्ट किया किया गया था। इससे पहले 14 जुलाई को हुए टेस्ट में भी वे पॉजिटिव मिले थे। बोल्सोनारो ने सात जुलाई को कोरोना के हल्के लक्षण पाए जाने की घोषणा की थी।

मैक्सिको में 24 घंटे में 915 मौतें हुईं। कुल आंकड़ा 40,400 हो गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, एक दिन में 6859 नए मरीज भी मिले हैं। मौतों के मामले में मैक्सिको का नंबर अमेरिका, ब्राजील और ब्रिटेन के बाद चौथा है।

थाईलैंड ने 31 अगस्त तक लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान किया है। यह चौथी बार है, जब देश में लॉकडाउन बढ़ाया गया है। इससे पहले सरकार ने 29 जून को पाबंदियां हटाने की योजना टाल दी थी।

अफ्रीका में 7.50 लाख से ज्यादा केस

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, अफ्रीका में संक्रमण के मामले 7 लाख 51 हजार 151 हो गए हैं। यहां अन्य महा-देशों की तुलना में महामारी देर से आई। यहां ट्रांसमिशन रेट भी अन्य जगहों से कम है। यहां साउथ अफ्रीका में सबसे ज्यादा 3.81 लाख केस हैं। महादेश के ज्यादातर देशों ने सार्वजनिक समारोहों और अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया है। यहां घाना, नाइजीरिया, मिस्र में कोरोना के मामले ज्यादा हैं।

नेपाल: लॉकडाउन खत्म किया गया

नेपाल सरकार ने बुधवार से लॉकडाउन से जुड़ी पाबंदियां खत्म कर दी। यहां 24 मार्च को लॉकडाउन का ऐलान किया गया था। नेपाल सरकार के प्रवक्ता युबराज खाटीवाडा ने कहा, ‘‘अब हमें और ज्यादा लॉकडाउन में रहने की जरूरत नहीं है। लोगों में इससे से डर पैदा हो गया है, इसलिए हमने इसे खत्म करने का फैसला किया है। हालांकि संक्रमण के खतरे को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, मास्क लगाना और सैनिटाइजर का इस्तेमाल जारी रखना होगा।’’

कतर: इंटरनेशनल फ्लाइट्स शुरू होंगी

कतर अगले महीने से विदेश की यात्रा करने से जुड़ी पाबंदियों में राहत देगा। यहां के लोगों को 1 अगस्त से दूसरे देश जाने और वहां से लौटने की इजाजत। वहीं, जो लोग दूसरे देशों में अब तक फंसे हैं वे भी कतर वापस आ सकेंगे। सरकार ने कहा है कि लो रिस्क वाले देशों से लौटने पर लोगों को अपना टेस्ट कराना और 7 दिन होम क्वारैंटाइन में रहना जरूरी होगा। अगर सफर से 48 घंटे पहले किसी मान्यता प्राप्त टेस्टिंग सेंटर ने किसी को संक्रमण मुक्त बताया है तो उसे टेस्टिंग नहीं कराने की छूट भी दी जाएगी।

पाकिस्तान: प्लाज्मा की कालाबाजारी

पाकिस्तान में संक्रमितों के इलाज के लिए ठीक हो चुके मरीजों के प्लाज्मा की कालाबाजारी हो रही है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, सरकार की ओर से जरूरतमंद मरीजों के लिए प्लाज्मा जुटाया जा रहा है। हालांकि, इसके लिए इंतजार करना होता है। ऐसे में लोग गैर कानूनी ढंग से इसकी खरीदारी कर रहे हैं। अब तक देश में 2 लाख 60 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं और 5 हजार 500 मौतें हुई हैं।

चीन: 14 नए मामले सामने आए

चीन के जिनजियांग राज्य में मंगलवार को 14 नए मामले सामने आए। इससे एक दिन पहले भी यहां 11 पॉजिटिव केस मिले थे। यहां के हेल्थ कमीशन के मुताबिक, नए मामलों में 9 लोग जिनजियांग के सुदूर इलाके के रहने वाले हैं। वहीं, पांच इंपोर्टेड केस हैं। यहां पिछले महीने संक्रमित मिलने के बाद टेस्टिंग तेज कर दी गई है।

ट्रम्प ने कहा- वैक्सीन बनाने के लिए चीन के साथ काम करने को तैयार

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि कोरोना का वैक्सीन पहले लाने के लिए मेरी सरकार चीन समेत किसी भी देश के साथ काम करने के लिए तैयार है। ट्रम्प ने मंगलवार को वैक्सीन बनाने के लिए चीन के साथ साझेदारी के बारे में पूछे जाने पर यह बात कही। उन्होंने कहा कि हम वैक्सीन तैयार करने के लिए अच्छा काम कर रहे हैं। इसके उम्मीद से बहुत पहले आने की संभावना है। यह लोगों तक तुरंत पहुंचाई जाएगी क्योंकि अमेरिकी सेना इसे बांटने में मदद करेगी।

2 करोड़ बच्चों की शिक्षा पर असर

यूनिसेफ ने बुधवार को कहा कि एक रिपोर्ट के मुताबिक, महामारी के चलते भारत समेत दक्षिण एशिया के कई देशों के करीब 2 करोड़ बच्चों की शुरुआती शिक्षा पर असर पड़ेगा। माता-पिता भी इस समय बच्चों को स्कूल जाने से रोक रहे हैं। गरीब देशों में बच्चों और उनके परिवार के लिए गुजर-बसर करना भी मुश्किल हो गया है।

Related News

Leave a Reply