Total Visitors : 8 0 5 9 1 8

निजामुद्दीन मरकज का मामला सामने आने के बाद जनता में फ़ैलाया ...

सिलसिलेवार तरीक़े से जाने हर खबर:- 1

निजामुद्दीन मरकज (Nizammuddin Markaj) का मामला सामने आने के बाद कई खबरें सामने आ रही हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि वे कौन सी 7 फेक खबरें हैं जो ना तो आप शेयर करें, फॉरवर्ड करें और ना ही उस पर यकीन करें।

नई दिल्ली:- राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मरकज  का मामला सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर झूठ का अंबार लग गया। कई मामलों में तो पुलिस ने भी खबरों को फर्जी बताया। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार सोमवार रात तक तबलीगी जमात से जुड़े मामले की संख्या सोमवार रात तक 1500 थी। जैसे-जैसे कोरोना वायरस के पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़ती गई वैसे ही फेक न्यूज की फैक्ट्री से खबरों का सिलसिला शुरू हो गया। आइए हम आपको बताते हैं कि वो कौन सी 7 फेक खबरें हैं जो ना तो आप शेयर करें, फॉरवर्ड करें और ना ही उस पर यकीन करें।

फेक न्यूज 1- मुस्लिम दुकानदार कोरोना वायरस फैलाने के लिए फलों पर थूक रहा

तबलीगी जमात का मामला सामने आने के बाद यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। पी के न्यूज की ओर से किये गए एक फैक्ट चेक के अनुसार यह वीडियो कोरोना वायरस के पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित किये जाने से पहले का है। इस वीडियो में जो शख्स फलों पर थूकते हुए दिख रहा है वह कथित तौर पर मानसिक तौर पर सही नहीं है। वह फलों पर थूक नहीं रहा बल्कि उन्हें गिन रहा है। यह वीडियो मध्य प्रदेश के रायसेन का है।
एसपी रायसेन ने इस बात की पुष्टि की है कि इससे डरने की ऐसी कोई बात नहीं है कि वह वायरस फैला रहे हैं। ऐसा लगता है कि पुराने वीडियो को मौजूदा मामले से जोड़ कर वायरल कर दिया है जिसे टीवी चैनलों ने खूब चलाया। जिस की पुष्टि हो चुकी है, अफवाह फैलाने वालों और धार्मिक सौहार्द को बिगाड़ने वालो को चिन्हित किया जा रहा है, जिन पर कानूनी कार्यवाही अवश्य की जाएगी।

Related News

Leave a Reply