Total Visitors : 7 4 3 9 6 9

अमान्य एवं अवैध शिक्षा संस्थानों पर सरकारी शिकंजा, कार्यवाही ...

मदरसे की आड़ में चला रहे थे स्कूल,

असोहा। बीईओ ने ब्लॉक क्षेत्र में अमान्य स्कूलों के खिलाफ अभियान चलाया। यहां दो न्याय पंचायतों में एक स्कूल ऐसा मिला जिसमें मदरसे की मान्यता थी और संचालन स्कूल का किया जा रहा था। वहीं एक स्कूल की मान्यता कक्षा 5 तक थी और कक्षाएं हाईस्कूल तक संचालित की जा रही थीं। इन स्कूलों के प्रबंधकों को स्कूल बंद करने का नोटिस दिया गया।

अमान्य स्कूलों को बंद कराने के लिए बीईओ सुषमा सेंगर ने चेकिंग अभियान चलाया। न्याय पंचायत दरेहटा के गांव सूबेदारखेड़ा में संचालित एमजेएच पब्लिक स्कूल में कक्षा 1 से 10 तक की कक्षाएं संचालित थीं। जबकि मान्यता कक्षा 8 तक थी। यही नहीं स्कूल की मान्यता मदरसे की थी। लेकिन पुस्तकें मदरसे की नहीं पाई गईं। वहीं पहाड़पुर के जेपी पब्लिक स्कूल में कक्षा 1 से 10 तक कक्षाओं का संचालन पाया गया। मान्यता कक्षा 1 से 5 तक मिली। यही नहीं संचालक मान्यता की नवीनीकरण के कागजात भी नहीं दिखा सके। 

इन दोनों स्कूलों को एक सप्ताह के अंदर बंद कराने के निर्देश दिए। कहा कि दोबारा संचालन मिला तो जुर्माना लगाया जाएगा। टीम में एबीआरसी उमेश गुप्ता, एनपीआरसी अनिल यादव, अरविंद शुक्ला, संदीप द्विवेदी, प्रवीण, संतोष शामिल रहे। बीईओ सुषमा सेंगर ने बताया मदरसे की आड़ में स्कूल संचालित हो रहा था। वहीं एक स्कूल में मान्यता से अधिक कक्षाओं का संचालन किया जा रहा था। दोनों स्कूलों को बंद कराने के निर्देश दिए गए हैं।

Related News